Constitution Why and How 2

Hello दोस्तों gyaanuday में आपका स्वागत है । आज 11 Class राजनीति विज्ञान का पहला चैपटर समझेंगे जिसका नाम है, संविधान क्यों और कैसे ? वैसे इस Chapter पर हम पहले ही बता चुके हैं । जिसमे बताया था, संविधान क्या होता है और संविधान की हमें जरूरत क्यों पड़ती है, ये तो आप लोगों को समझा चुका हूँ । तो अगर आप लोगों ने अगर उस Post को नहीं देखा है तो एक बार जरूर देख लें । आज के इस Post में हम कुल मिलाकर तीन टॉपिक समझने वाले हैं । सबसे पहले हम बात करेंगे कि भारतीय संविधान कैसे बना था ? भारतीय संविधान के बनने का क्या इतिहास है ? उसके बाद हम जानेगे भारतीय संविधान की मुख्य विशेषताएं क्या है ? और आखिर में हम बात करेंगे नेपाल के संविधान की की, नेपाल का संविधान का निर्माण कैसे हुआ है ? तो जानते हैं आसान भाषा में ।

संविधान क्यों और कैसे का पार्ट-१ पढ़ने के लिए यहाँ Click करें ।

हम बात करते भारतीय संविधान का निर्माण कैसे हुआ ? जब भी हम भारतीय संविधान के निर्माण की बात करते हैं, तो हमें ऐसा लगता है कि भारतीय संविधान को या तो डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने बनाया होगा या फिर नेहरू जी ने बनाया होगा या फिर डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद जी ने बनाया होगा । लेकिन ऐसा कुछ नहीं है । भारतीय संविधान को संविधान सभा ने बनाया है और वो उसके सिर्फ सदस्य थे । उसकी जो संख्या थी वो बहुत ज्यादा थी, जिसकी हम बात करते हैं । संविधान सभा की रचना जो हुई थी वो एक मिशन के आधार पर हुई थी ।

संविधान का इतिहास पढ़ने के लिए यहाँ Click करें ।

दोस्तों कुछ चीजें ऐसी हैं जो आपको बहुत ही ध्यान से समझना चाहिए । सबसे पहली चीज़ देखिये जो संविधान सभा की जो पहली बैठक हुई थी वो 9 दिसंबर 1946 को बुलाया गया था और संविधान सभा के जो अध्यक्ष थे वो डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद थे और जो अस्थायी अध्यक्ष थे वो सच्चिदानंद सिन्हा थे । इसके अलावा प्रारूप समिति के जो अध्यक्ष चुने गए थे वो डॉक्टर भीमराव अंबेडकर चुने गए थे और इसके अलावा संविधान जो तैयार हुआ था वो 26 नवंबर 1949 को हमारा संविधान जो था वो बन कर तैयार हो गया था और 26 जनवरी 1950 को हमारे संविधान को लागू कर दिया गया था । यहाँ पे बच्चे कन्फ्यूज रहते अगर क्वेश्चन आते है कि हर भारतीय संविधान को लागू कब किया गया तो वहाँ पे हम date बता दें ? 26 जनवरी 1950 लेकिन अगर ये पूछा जाता है कि भारतीय संविधान बनकर कब तैयार हुआ ?

तो जो भारतीय संविधान 26 नवंबर 1949 को बनकर तैयार हो गया था और भारतीय संविधान को बनने में जो समय लगा था वो दो वर्ष 11 महीने और 18 दिन का समय लग गया था और इसमें जो कुल बैठकें हुई थीं वो 166 की हुई थी । जब भारतीय संविधान बनकर तैयार हुआ तो उसमें 395 अनुच्छेद, 22 भाग और आठ अनुसूचियां थीं । जैसे की हमारे पुस्तक में बहुत सारे अध्याय होते है । उस अध्याय के बहुत सारे छोटे छोटे सब टॉपिक होते हैं और उसी संविधान में क्या था की हमारे संविधान में भी अलग अलग शेड्यूल बनाए गए थे । अलग अलग भाग बनाये गए थे, है ना ? जिसमें से 395 अनुच्छेद था, 22 भाग थी और आठ अनुसूचियां थीं ।

सन 1945 में ब्रिटेन की लेबर पार्टी की सरकार थी । ब्रिटेन में उस समय प्रधानमंत्री Clement Attlee थे ? ब्रिटेन ने तीन सदस्यों वाला एक मिशन भारत भेजा था जिसको कैबिनेट मिशन के नाम से हम जानते हैं । उन्होंने जो प्रस्तावना दी थी, संविधान सभा के निर्माण की, उसी के आधार पर भारतीय संविधान सभा का निर्माण हुआ था । जिसमें प्रत्येक प्रांत से या फिर जितनी भी देसी रियासतें थी, उनकी जनसंख्या के अनुपात में किया गया था ? जिसमें जनसंख्या का जो अनुपात रखा गया था वो था दस लाख मतलब 10,00,000 लोगों में से एक संविधान सभा का सदस्य चुना जाना था, जिसमें से 292 सदस्य तो ब्रिटिश शासन वाले जो प्रांत थे, वहाँ से चुने गए थे और बाकी जो 93 सदस्य जो थे वह देसी रियासतों से लिए गए थे । यानी की देशी रियासत जहां राजा महाराजा का शासन हुआ करता था और बाकी जो चार सदस्य थे वो चीफ गवर्नर के क्षेत्र से चुने गए थे । जो संविधान सभा में कुल सदस्यों की संख्या जो थी वो 389 थी ।

लेकिन इस समय क्या है ? इसमें परिवर्तन किया जा चुका है । अगर हम की बात करें तो इस समय 299 है, लेकिन, अनुसूची 12 है और भाग की अगर बात करें तो संविधान में 25 भाग है । उम्मीद करता हूँ कि भारतीय संविधान की ये जो निर्माण की प्रक्रिया थी, आपको समझ में आ गयी होगा ।

अब हम बात करते हैं, भारतीय संविधान की प्रमुख विशेषताएं क्या है दोस्तों अगर हम भारतीय संविधान की विशेषता की बात करें ।

तो भारतीय संविधान एक लिखित संविधान है, जिसमें क्या है कि सभी कानून क्रम बद्ध लिखे गए हैं । जिसमे हमारे संविधान में 395 अनुच्छेद है या इसके अलावा जो 25 भाग है या फिर जो 12 अनुसूचियां हैं ? ये सब क्या है? क्रम वाइज लिखे हुए हैं, इसमें ठीक है ।

इसके अलावा हम दूसरा पॉइंट बता सकते हैं । संसदीय व्यवस्था भारतीय संविधान में क्या है ? संसदीय व्यवस्था का प्रावधान किया गया है, जिसमें क्या होता है की जो राष्ट्रपति हैं वो नाममात्र का शासन है और वास्तविक सत्ता कौन चलाता है तो हमारे देश का प्रधानमंत्री । प्रधानमंत्री हमारे देश में क्या है ? पावरफुल है, है ना ? तो इसमें संसदीय संस्था में यही होता है ।

इसके अलावा तीसरे point की हम बात करे कठोर और लचीला संविधान भारतीय संविधान क्या है ? कठोर भी है, कई मामलों में और कई मामलों में लचीला भी है । मतलब की भारतीय संविधान में कई ऐसी व्यवस्थाएँ की गई जिसमें संशोधन करना कई ऐसे कानून है जिसमें क्या है । संशोधन करना बहुत आसान है । और कई ऐसे कानून हैं जिनमें संशोधन करना बहुत ही कठिन ठीक है तो भारतीय संविधान को कठोर और लचीला दोनों संविधान कहा जाता है ।

चौथा पॉइंट है केंद्र और राज्य सरकारों के बीच में शक्तियों का बंटवारा । भारतीय संविधान में क्या किया गया है ? केंद्र सरकार और राज्य सरकार दोनों में ही शक्तियां का बंटवारा किया गया है और इसकी अलग अलग अनुसूचियां बनाई गई है, जिसमें क्या है की केंद्र सरकार को अलग पावर दिए गए हैं और राज्य सरकार को अलग पावर दे ।

इसके अलावा भारतीय संविधान के धर्मनिरपेक्ष राज्य की स्थापना करता है । यहाँ पे भारतीय संविधान में किसी एक विशेष धर्म को महत्त्व नहीं दिया गया है ।

उसके बाद छठा पर हम बता सकते हैं व्यस्क मताधिकार की व्यवस्था भारतीय संविधान में क्या किया गया है ? व्यस्क मताधिकार की व्यवस्था की गई है, जिसमें क्या है की 18 साल से अधिक उम्र के जीतने भी महिला और पुरुष हैं । सभी क्या कर सकते हैं, वोट दे सकते हैं और सरकार को बनाने में अपना योगदान दे सकते हैं ।

इसके अलावा सातवां point में हम बता सकते हैं स्वतंत्र न्यायपालिका भारतीय संविधान में एक स्वतंत्र न्यायपालिका की स्थापना की गई है, जिसमें क्या है की न्यायपालिका क्या है ? अपने आप में बिल्कुल स्वतंत्र हैं । सर्वोच्च न्यायालय उच्च न्यायालय क्या है की हमारे मौलिक अधिकारों की रक्षा भी करती है ।

इसके अलावा 8th Point हम बता सकते हैं, राज्य के नीती निर्देशक सिद्धांत जो है उसकी भी व्यवस्था की गई है । यानी की देश की सरकार को देश के विकास के लिए कुछ नीतियां चाहिए तो वो भी भारतीय संविधान में। उसका भी प्रावधान किया गया है ताकि देश का विकास सरकार सही ढंग से कर सके ।

दोस्त अब हम अपने पड़ोसी मुल्क नेपाल के संविधान की बात करते हैं । देखिये उसको नेपाल का जो संविधान है, 1948 के बाद पांच बार बनाया जा चूके हैं। 1948, 1951, 1959, 1962 और 1990 में संविधान बनाया गया । जब 1990 में संविधान बना तो वहाँ पे बहुदलीय लोकतांत्रिक व्यवस्था को अपनाया गया, लेकिन वहाँ पे कई इलाकों में जो वहाँ के जो राजा थे, उनका शासन कायम था । 2002 में क्या हुआ ? 2002 में राजा ने संविधान को खत्म कर दिया और एक तरीके से अपनी शासन व्यवस्था यानी की राज व्यवस्था को दोबारा से स्थापित किया । लेकिन वहाँ पे बहुत सारे लोगो ने राज व्यवस्था का खुलकर विरोध किया ।

वहाँ पे माओवादी पार्टी जो थी ठीक है । उसने सबसे ज्यादा राज तंत्र का विरोध किया और आखिरकार वहां पर लोकतंत्र व्यवस्था को अपनाया गया । सन 2015 में वहां पर संविधान लागू हो गया और लोकतांत्रिक व्यवस्था को अपना लिया गया । आज नेपाल एक लोकतांत्रिक देश है ।

तो दोस्तो ये था 11th Class Political Science का 1st Chapter संविधान क्यूँ और कैसे । इसमें जाना संविधान का कैसे बना, इसका इतिहास और विशेषताएं । जानकारी को दोस्तों के साथ ज़रूर Share करें । धन्यवाद !!

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.