Constitution, why and how

Hello दोस्तों ज्ञान उदय में आपका स्वागत है और आज हम बात करते हैं, 11th Class Political Science 1st Chapter यानी पहला अध्याय जिसका नाम है, संविधान क्यों और कैसे ? (Constitution why and how in hindi) के बारे में । सबसे पहले हम समझेंगे कि संविधान होता क्या है और उसके बाद हम बात करेंगे कि संविधान की हमारे जीवन में क्या भूमिका है यानी कि संविधान के क्या कार्य होते हैं ? तो जानते हैं आसान भाषा में ।

अगर हम संविधान की बात करें तो संविधान क्या है ? य़ह एक दस्तावेज़ है या एक पुस्तक है, जिसके माध्यम से किसी भी देश की शासन व्यवस्था को चलाया जाता है । संविधान में सभी नियम, कानून बिल्कुल क्रमानुसार लिखे हुए हैं ? जैसे की हमारे किताबों में अध्याय क्रमानुसार होते है । वैसे ही हमारे संविधान में भी है । सभी नियम, कानून उसमें क्रम बद्ध लिखे हुए हैं, जिसके माध्यम से देश की शासन व्यवस्था को चलाया जाता है । अगर हम संविधान को समझना चाहते हैं, सही मायने में तो हम थोड़ा सा प्राचीन समय में चलते हैं । हम इसको इतिहास की दृष्टि से समझाने की कोशिश करते हैं ।

Chapter को Detail में पढ़ने के लिए यहाँ Click करें ।

अगर आप प्राचीन समय में देखो तो उस समय में क्या होता था ? जैसा कि आप जानते हैं कि उस समय राजा महाराजाओं का शासन हुआ करता था । उस समय में राजा महाराजाओं ने जो नियम बना दिया, वही उस समय का कानून या यूं कहें संविधान होता था । वहीं उस समय के नियम कानून होते थे । इन्हीं नियमों के हिसाब से राजा महाराजा अपने राज्य या देश का शासन चलाया करते थे ।

इसके अलावा हम अगर भारत की बात करें तो प्राचीन समय में भारत में ब्राह्मणों ने नियम बनाए थे, उस समय ब्राह्मणों का वर्चस्व था, ब्राह्मण कानून बनाया करते थे ? जो नियम या कानून बनाते थे वो राजा महाराजाओं को भी मानना होता था । सभी लोगों को मानना होता था । तो वही उस समय का संविधान था । अब आप समझ गए हों कि संविधान किसे कहते हैं ।

इस Chapter की Video देखने के लिए यहाँ Click करें ।

11th Class की सभी Videos देखने के लिए यहाँ Click करें । Class XI Pol.Science – YouTube

लेकिन वर्तमान में क्या स्थिति है ? अब की स्थिति कुछ अलग है । वर्तमान मे भारत एक लोकतांत्रिक देश है, जहाँ पर जनता का शासन होता है । अब यहाँ पे कुछ प्राचीन समय जैसा शासन व्यवस्था या संविधान नहीं चल सकता है, लेकिन अभी भी कुछ ऐसे देश हैं, जहाँ पे तानाशाही है । तानाशाही मतलब वहाँ पर एक ही व्यक्ति का शासन है । जैसे की हम नॉर्थ कोरिया का उदाहरण दे सकते हैं । क्या नॉर्थ कोरिया में कोई संविधान है ? नहीं ! वहाँ पर किसका शासन है ? तानाशाह किम उन जॉन का । वो जो भी फैसले लेता है, वही लोगों के लिए नियम कानून है । उसने जो नियम कानून बना दिए वो ही वहाँ का संविधान है ।

लेकिन एक लोकतांत्रिक देश को चलाने के लिए लिखित संविधान का होना बहुत ज़रूरी है । ताकि देश की शासन व्यवस्था को सुचारु रूप से चलाया जा सके । तो उसको हम समझते हैं की संविधान हमारे लिए क्यों जरूरी है ? यानी कि संविधान का कार्य क्या है ? हमारे जीवन में संविधान की भूमिका क्या है ? संविधान का जो सबसे पहला काम होता है, वह है लोगों के बीच में तालमेल बनाना । अब जैसे हम भारत की बात करें तो भारत में क्या है ? अलग अलग धर्म, अलग अलग जाति है और अलग अलग वर्ग के लोग यहाँ पे निवास करते हैं । उनकी अपनी पहचान है, अलग अलग क्षेत्रों में रहते है । उनकी वेशभूसा भी अलग अलग है ।

भारतीय संविधान के बारे में और अधिक पढ़ने के लिए या संविधान के इतिहास के लिए यहाँ Click करें ।

तो अब इन लोगों के बीच में तालमेल बनाने का काम कौन करेगा ? संविधान करेगा । संविधान एक ऐसा नियम कानून उपलब्ध कराएगा जिससे कि लोगों के बीच में तालमेल बना रहे । लोगों को आपस में एक दूसरे के ऊपर विश्वास रहे, भरोसा रहे । और य़ह एक ऐसा नियम बनाता है, संविधान जिससे की किसी भी लोगों को किसी भी धर्म, किसी भी जाति के लोगों को बेगानेपन का अनुभव न हो । तो संविधान का जो दूसरा काम होता है वो ये तय करना होता है कि देश में निर्णय लेने की शक्ति किसके पास होगी और सरकार कैसे बनाई जाएगी । अब इसको समझिए ।

मान लीजिए कि देश में कोई कानून बनाया जा रहा है । अब कोई कानून ऐसा है, जिसके बनाने में कुछ लोग उसके पक्ष में हैं, और कुछ लोग उसके विपक्ष में हैं । तो अब ये तय कौन करेगा कि कौन सा कानून बनना है । तो इसके लिए क्या है ? हमारे देश में संसद की व्यवस्था की गई है । अब संसद में क्या होता है ? संसद का जो गठन की प्रक्रिया है वो इस चैपटर में नहीं बताया गया है । लेकिन हमारे देश में कानून निर्माण करने की जो पावर है, वो संसद को दी गई है, जिसमें लोकसभा, राज्यसभा के सदस्य लोग क्या करते हैं, कानून निर्माण करते हैं और वो सभी सदस्य जैसे लोकसभा के जो सदस्य हैं । वो सारी जनता द्वारा चुने जाते हैं । एक तरीके से कानून निर्माण करने का काम कहीं न कहीं जनता के जो सदस्य हैं, वही करते है ।

लेकिन अगर हम प्राचीन समय की बात करें तो प्राचीन समय में कानून निर्माण करने के शक्ति किसके पास होती थी ? जी राजाओं के पास होती थी और राजा जो कानून बनाते थे, वहीं उस समय का संविधान होता था, हैं ना ? ये बात हम समझ चुके हैं ।

दोस्तों संविधान का अगला काम है सरकार की सख्ती पर सीमाएं लगाना । अब इसमें हम बताएंगे कि सरकार कोई भी कानून बनाती है तो ऐसा कानून ना हो जिससे कि किसी के धर्म को नुकसान हो या फिर सरकार अगर कोई कानून बनाती है जिससे की वो कहती है की भाई हम लोगो को क्या करना होगा, एक विशेष वस्त्र का प्रयोग करना होगा या हमें किसी एक भाषा में ही शिक्षा ग्रहण करना होगा या फिर इंग्लिश में ही हमें पढ़ाई करनी होगी ? ऐसा कोई कानून सरकार नहीं बना सकती । अगर सरकार ऐसा कानून बनाती है जिससे की हमारे मौलिक अधिकार को नुकसान हो तो उसमें संविधान क्या करता है ? उसपे कुछ सीमाएं लगा देता है ।

भारतीय संविधान में मौलिक अधिकारों को पढ़ने के लिए यहाँ Click करें ।

वह सरकार को कानून बनाने ही नहीं देगा, उतना पावर ही नहीं देंगे । तो कहने का मतलब यह है कि संविधान का तीसरा काम है कि नागरिको के ऊपर जो भी कानून लागू हो रहा है उसके ऊपर कुछ सीमाएं लगा दी ।

दोस्तों संविधान का जो अगला काम है, समाज की आकांक्षा और लक्ष्य को पूरा करना । संविधान, सरकार की कुछ शक्तिओं पे सीमाएं तो लगाती है, लेकिन सरकार को कुछ ऐसी शक्तियां भी उपलब्ध कराती जिससे समाज की आकांक्षाओं को उनके लक्ष्य को पूरा कर सके । और दोस्तों हम भारत के उदाहरण की बात करें तो भारत में क्या इतनी ज्यादा गरीबी है ? भुखमरी है । बहुत सारे लोग 1 दिन का खाना भी नहीं जुटा पाते हैं । अब उनके लिए एक भलाई का काम करना है, उनके लिए कुछ करना है तो उसके लिए क्या है ? सरकार को ऐसा पावर दिया गया है कि वो भारत से गरीबी को हटा सके या फिर भारत की जो आकांक्षाये हैं भारत के लोगों की जो इच्छाएं हैं, उसको पूरा कर सके ।

तो कोई संविधान का जो अगला काम है, वो है कि सरकार को ऐसी क्षमताएं प्रदान करना जिससे की सरकार क्या कोशिश करें ? लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने की कोशिश करें और एक न्यायपूर्ण समाज की स्थापना कर सकें ।

अगर हम संविधान के अंतिम कार्य की बात करें तो संविधान क्या करता है ? हमें मौलिक अधिकार प्रदान करता है और हमारे मौलिक अधिकारों की रक्षा भी करता है । मतलब की हर एक इंसान के विकास के लिए कुछ अधिकारों की जरूरत होती है । जैसे की हम मौलिक अधिकार की बात करें । समानता, स्वतंत्रता, धार्मिक स्वतंत्रता या फिर शोषण के विरुद्ध जो अधिकार है । हमारे छह मौलिक अधिकार है, वो हमें किसने प्रदान की है ? संविधान ने ही प्रदान किये हैं और इन अधिकारों की रक्षा करने का काम कौन करता है ।  तो संविधान ही करता है ।

तो दोस्तों हमने जाना संविधान क्यूँ और कैसे Class 11th का पहला chapter Constitution why and how, जानकारी को अपने दोस्तों के साथ ज़रूर Share करें। तब तक के लिए धन्यवाद  !!

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.